भारत में Bank Loan कितने प्रकार के होते है | Types of Bank Loans in India in Hindi

Types of loans in India– दोस्तों हमें जब भी बैंक से लोन लेने की आवश्यकता पड़ी है क्या आपने सोचा है कि हमारी जरूरतों के अनुसार बैंक से लोन विभिन्न प्रकार का होता है और लोन के अनुसार उसकी ब्याज दर भी अलग होती है। तो बैंक से लोन लेने से पहले हमें यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि हमें लोन किस वजह से चाहिए। इसके लिए हमें बैंक लोन के प्रकार जानना जरूरी है।

जैसे आपको घर बनाने के लिए लोन चाहिए तो आप को बैंक होम लोन सुविधा प्रदान करता है जिसमें ब्याज दर अलग होती है और यदि आपके पास गोल्ड है तो आप उसे गिरवी रख कर गोल्ड लोन भी ले सकता है। इसीलिए आपको यह जानना जरूरी है कि भारत में लोन कितने प्रकार के होते हैं उसके बाद ही आप अपनी आवश्यकतानुसार सही लोन का चुनाव कर पाएंगे।

आज हम हिंदी टेक्निकल के इस पोस्ट में types of bank loan के बारे में बात करेंगे, लेख को ध्यानपूर्वक पढ़ें और अगर आपको कुछ सीखने को मिले तो इसलिए को अपने साथी जरूरतमंद के साथ जरूर साझा करें।

Bank Loan के प्रकार (Types of loan in india)

सर्वप्रथम जब आप बैंक से लोन लेते हैं तो आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि आपको कितने समय के लिए बैंक से लोन चाहिए मतलब आप कितने समय अंतराल में बैंक लोन चुकता कर देंगे। इस आधार पर भी बैंक लोन को विभाजित किया जाता है, चलिए पहले यह जान लेते हैं कि समय के अनुसार बैंक लोन कितने प्रकार के होते हैं

  • Short Term Loan
  • Medium Term Loan
  • Long Term Loan

Short Term Loan (अल्पकालीन लोन) वह लोन होता है जिसे आप कम समय अवधि के लिए लेते हैं और 1 से 2 साल में बैंक लोन का भुगतान कर देते हैं।

Medium Term Loan (मध्यकालीन लोन) जब आप कोई लोन 3 से 5 साल के लिए लेते हैं तो उसे मीडियम टर्म लोन कहा जाता है।

Long Term Loan(दीर्घकालीन लोन) ज्यादातर देखा गया है इस तरह के लोन राशि बहुत ज्यादा होती है जिसे चुकता करने के लिए 10 से 20 साल का समय दिया जाता है जैसे कि होम लोन।

यदि आप जानना चाहते हैं बैंक से लोन कैसे लें तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें,

Loan कितने प्रकार के होते हैं

आइए अब बात कर लेते हैं की लोन कितने प्रकार का होता है और किन-किन चीजों के लिए आप बैंक से लोन ले सकते हैं। क्योंकि आपकी आवश्यकता के अनुसार ही लोन की कैटेगरी को विभाजित किया गया है।

types of bank loans in india in hindi
types of bank loans in india in hindi

पर्सनल लोन(Personal Loan)

यदि आपको बिना सिक्योरिटी और गारंटर के लोन चाहिए तो आपको पर्सनल लोन लेना उचित रहेगा क्योंकि पर्सनल लोन में आपको किसी तरह की कोई जमानत जमा करनी नहीं पड़ती है। कम से कम डॉक्यूमेंट आधार कार्ड पैन कार्ड और सैलरी स्लिप से आप पर्सनल लोन ले सकते हैं।

पर्सनल लोन क्यों ले

  • यदि आपके पास सिक्योरिटी के लिए कुछ सामान नहीं है।
  • यदि आपको जल्द से जल्द पैसो की जरुरत हो।
  • यदि आप अपने निजी कारणों के लिए लोन लेना चाहते हो तब भी आप पर्सनल लोन ले सकते है।

होम लोन(Home Loan)

आप अपने खुद का घर बनाना चाहते है तो आपको Home loan लेना चाहिए। यह लोन खास तरह से नया घर खरीदने और बनाने के purpose से दिया जाता है। होम लोन की एक और खास बात है की यह बेहद ही कम ब्याज दर पर लम्बे समय के लिए लिया जा सकता है। इसमें आप 5 से 20 साल तक की लोन EMI बना सकते है और आराम से अपने लोन का भुगतान बैंक को कर सकते है

बैंक आपको आपके घर के बनवाई में खर्च, घर का रजिस्ट्रेशन, स्टाम्प ड्यूटी और भी अन्य सभी खर्च के लिए पुरे total amount के 70 से 85% तक लोन दे देता है।

Home Loan क्यों ले

  • यदि आप अपना नया घर बना रहें है।
  • यदि आप कोई जमीन खरीद रहें है।
  • कोई बना हुआ मकान खरीदने के लिए भी आप होम लोन ले सकते है।
  • यदि आप लम्बे समय के लिए लोन लेना चाहते है।

गोल्ड लोन(Gold Loan)

यदि आप गोल्ड के शौकीन है और आपके पास गोल्ड ज्वेलरी है तो आप अपने खाली घर पर रखे सोने(gold) पर लोन ले सकते हैं। आजकल कई बैंक gold पर instant लोन की सुविधा दे रहें है जिसमे आप अपने सोने के बराबर राशि का पैसा लोन में ले सकते है। लोन देने के साथ ही बैंक आपके गोल्ड को सिक्योरिटी के तौर पर अपने पास रख लेता है।

तो यदि आपको इमरजेंसी में पैसो की आवश्यकता है तो आप अपने घर के लॉकर में खाली पड़े सोने का उपयोग कर झटपट लोन ले सकते है। कुछ गोल्ड लोन सम्बंधित बैंक तो आपको 10 मिनट में गोल्ड लोन देने का वादा भी करते है जिसमे आपको 11 से 13% तक का सालाना ब्याज देना होता होता है।

Gold Loan क्यों ले

  • आपको emergency पैसों की जरुरत है तो।
  • यदि आप किसी तरह की नौकरी और व्यवसाय नहीं करते हैं।
  • आप कम से कम कागजी दस्तावेज के लोन लेना चाहते हैं तो भी आप गोल्ड लोन ले सकते हैं।

एजुकेशन लोन(Education loan)

education loan आम तौर पर higher studies के लिए दिया जाता है जैसे आप अपनी 12th के बाद कोई degree के लिए college में एडमिशन लेते है और आपके पास कॉलेज फी देने के लिए पैसे नहीं है तो आप Education loan के लिए अप्लाई कर सकते है। इस तरह के लोन में जब आप की पढ़ाई पूरी हो जाती है (मतलब डिग्री मिलने के बाद जिस course के लिए आपने लोन लिया है) उसके बाद से आपको मासिक EMI का भुगतान करना होता है।

Education लोन के लिए बैंक कॉलेज की जांच भी करता है की छात्र किस कॉलेज में जा रहा है, वहाँ का infrastructure, प्लेसमेंट्स और कॉलेज मान्यता प्राप्त है की नहीं उसके बाद ही बैंक लोन approve करता है साथ ही गारंटर के लिए आपको अपने किसी माता पिता या फिर किसी रिस्तेदार को साथ लेना पड़ेगा और बैंक आपको नहीं सीधे कॉलेज को फी के पैसे देता है।

Education Loan क्यों लें

  • आप Higher studied करना चाहते है।
  • कॉलेज फी के लिए पैसों का आभाव है।
  • देश से बाहर की पढ़ाई बहुत महंगी होती है तो भी आप एजुकेशन लोन apply कर सकते हैं।

वाहन या कार लोन( Vehicle or Car Loan)

आजकल महंगाई इतनी ज्यादा बाद गयी है की आप अपनी नौकई के पैसों से केवल घर ही अच्छे से चला पाते है। तो ऐसे में कुछ लोगों के शौक होते है की उनके पास भी अपनी गाड़ी, कार मोटर बाइक हो तो ऐसे में आप बैंक से लोन ले कर अपना शौक पूरा कर सकते हैं। बैंक आपको वाहन लेने के लिए लोन भी ऑफर करता है।

Vehicle car लोन भी बैंक लोन का प्रकार ही है जिसके आप नयी गाड़ी के on road price के 70 से 80% amount का लोन से ले सकते हैं। Car loan बेहद ही काम ब्याज दर 7% से 10% में बैंक द्वारा दिया जाता है जिसे आप 2 से 8 साल के लिए ले सकते हैं।

जैसे आप 8 लाख (on road price) की कोई कार लेना चाहते है और आप 2 लाख रूपये शुरुआत में दे कर बाकि बचे 6 लाख रूपये का 7.2% की सालाना ब्याज दर से लोन करा सकते है बैंक आपके car डीलर को सारा पैसा चूका देगा और आप मासिक EMI पर 8 साल तक धीरे धीरे loan repayment कर सकते हैं।

Vehicle or Car Loan क्यों लें

  • यदि आप कोई मोटर बाइक ले रहे हैं।
  • नयी कार लेने के लिए।
  • आप old vehicle (पुराने वाहन) को लेने के लिए भी यह लोन ले सकते हैं।

कॉर्पोरेट बिजनेस लोन (corporate/business loan)

यदि आप कोई बड़ा business करना चाहते है या फिर आप अपने व्ययसाय(business) को और बढ़ाना चाहते है तो आप बिज़नेस / कॉर्पोरेट लोन ले सकते है। पुराने समय में बैंक अपने total capital amount का 55% हिस्सा कॉर्पोरेट loan ले अंतर्गत दे। लेकिन बहुत से defaulter जैसे विजय माल्या द्वारा loan का repayment ना करने की वजह से बैंकों को बहुत नुकसान हुआ।

यह सब देखते हुए की आम जनता का पैसा सुरक्षित रहे इसके लिए RBI के नए नियमानुसार अब बैंक केवल 25% हिस्सा ही कॉर्पोरेट लोन में बाँट सकता है।

कॉर्पोरेट बिजनेस लोन क्यों लें

  • यदि आप कोई नया अपना business(व्ययसाय) करना चाहते हैं।
  • अपने बिज़नेस को और बड़ा करने के लिए।
  • कोई दुकान या दुकान का सामन लेने के लिए।

प्रॉपर्टी लोन(Property Loan)

आप अपनी property(जमीन, घर, सामान) पर भी लोन ले सकते हैं। बैंक में आप अपनी प्रॉपर्टी को सिक्योरिटी (गिरवी) रख कर लोन ले सकते है। इस तरह के लोन में आपको आपकी property की कागजी कीमत का 50-60% लोन ले सकते हैं। इस लोन में आपको 11.5% से 13% तक का सालाना ब्याज पर long term loan मिल सकता है।

प्रॉपर्टी लोन क्यों लें

  • आप नौकरी नहीं करते तो आप अपनी प्रॉपर्टी पर भी लोन ले सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

दोस्तों आशा करते हैं आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा और आप आसानी से समझ गए होंगे कि Bank Loan कितने प्रकार के होते है(types of bank loan in india in hindi) और साथ ही हम ने बताया कि विभिन्न प्रकार के लोन क्यों लें की आप गलत तरह का लोन ना ले लें।

अगर आपका कोई सुझाव है तो नीचे कमेंट करें और अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अन्य के साथ शेयर करें जिससे कि आपके रिश्तेदार और अपने मित्रों में को भी जागरूकता बनी रहे साथ ही सबको बहुत लाभ होगा भी होगा। धन्यवाद्

Satyam Panda

मैं इस वेबसाइट का Founder और Chief Editor हूं। Education की बात करें तो मैं इंजीनियरिंग ग्रेजुएट हूं और बतौर इंजीनियर कार्यरत हूँ। साथ ही पार्ट टाइम मुझे ब्लॉग लिखना और टेक्नोलॉजी के साथ अपडेट रहना पसंद है जिसे में इस ब्लॉग (Hinditechnical.in) के माध्यम से आपके साथ साझा करता हूँ।

Leave a Reply